सर्च-सीजीसीआरआई

 कर्मचारी खोजें@सीजीसीआरआई 
 नाम:
 (पहला नाम / अंतिम नाम से खोज)    

    Home     फाइबर ऑप्टि      परिदृष्टि
 फाइबर ऑप्टिक्स एवं फोटोनिक्स 
     
 
परिदृष्टि
सीजीसीआरआई स्थित फाइबर ऑप्टिक्स प्रयोगशाला में सिलिका आधारित ऑप्टिकल फाइबर के निर्माण पर अनुसंधान का एक लम्बा इतिहास है । इस संस्थान में फाइबर ऑप्टिक्‍स पर अनु. एवं वि. की शुरूआत विभिन्न प्रकार के फाइबरों के निर्माण की स्वदेशी क्षमता की स्थापना के साथ सन् 80 के दशक के पूर्वार्ध में की गई । सीएसआईआर द्वारा प्रदत्त प्रारम्भिक निधि के साथ वैज्ञानिकों, ईंजीनियरों एवं तकनीशियनों का एक समूह एम सी वी डी (संशोधित रासायनिक वाष्प जमाव) द्वारा पूर्वाकृति निर्माण हेतु सुविधाओं की स्थापना के लिए आगे आया । मुख्य ध्यान ऑप्टिकल दूर संचार एवं फोटोनिक अवयवों पर विशेष बल देते हुए अनुप्रयोग अभिमूखित अनुसंधान पर केन्द्रित था । विभिन्न संघटनों एवं डिजाइनों, मानक एवं विशेष दोनों किस्मों के फाइबरों के विकास में प्राप्त धीमी सफलता के साथ, एफ ओ पी डी वर्त्तमान में प्रशंसनीय बाजार संभावनाओं के साथ कई महत्वपूर्ण अनुप्रयोगों के लिए विशेष फाइबरों के निर्माण हेतु एक अत्याधुनिक प्रयोगशाला में विकसित हो चुका है । फाइबर विकास पर अनु. एवं वि. कार्य पर्याप्त रूप से लक्षण-वर्णन सुविधाओं से युक्त है, ताकि विभिन्न ऑप्टिकल गुणों का अध्ययन किया जा सके । यद्यपि, विशेष फाइबरों का निर्माण प्रयोगशाला में फाइबर आधारित सभी अनुसंधानों का आधार है, इसने अपनी गतिविधियाँ ऑप्टिकल संचार, फाइबर लेजर एवं ब्रैग ग्रेटिंग सेंसरों के कई मुख्य क्षेत्रो में विस्तारित की है । फोटोनिक क्रिस्टल फाइबर में सुपर कंटिनुअम निर्माण सहित अरैखिक ऑप्टिक्स पर अध्ययन गतिविधि आरम्भ की गई है । यह भारत एवं विदेशों में उद्योगों एवं शैक्षणिक संस्थानों के साथ सीधे एवं प्रभावकारी सहयोगिता कायम रखती है ।








    Updated on: 26-09-2012 09:42 
facebook
twitter
:: Contents of this site © केन्द्रीय कांच एवं सिरामिक अनुसंधान संस्थान (सीजीसीआरआई) ::             :: सर्वश्रेष्ठ स्क्रीन रिज़ॉल्यूशन: 1024x768 ::