सर्च-सीजीसीआरआई

 कर्मचारी खोजें@सीजीसीआरआई 
 नाम:
 (पहला नाम / अंतिम नाम से खोज)    

    Home     अनुसंधान एव      योजना विभाग
 अनुसंधान एवं विकास सपोर्ट सेवाएं 
     
 
योजना विभाग

एक नज़र
ऐसे समय जब संगठनात्मक योजना निर्देशात्मक योजना प्रक्रिया की ओर अग्रसर हो रहे हैं, 01 मार्च 2016 को संस्थान का योजना विभाग प्रारंभ किया गया ताकि लंबे समय के लिए अनुकूल भविष्य निरूपण एवं अनुसंधान एवं विकास प्राथमिकताओं की तैयारी को ध्यान में रखते हुए उत्प्रेरक के रूप में कार्य किया जा सके ताकि संस्थान को शिलाप्रक्षेपक के रूप में निष्पादन के लिए उच्च प्रक्षेप पक्ष तैयार किया जा सके। निदेशक महोदय को सुनिश्चित क्षेत्र में उद्येश्य पूर्ति एवं विकास कार्य के लिए निर्णय लेने के लिए सपोर्ट सिस्टम के रूप में कार्य कर सके तथा संस्थागत उन्नति को गति प्रदान करने में प्रेरणा स्रोत सिद्ध हो यही विभाग का कार्य है ।

सीएसआईआर के बढ़ते हुए कार्यक्षेत्र एवं अन्य प्रायोजित अभिकरणों (सरकारी विभाग/मंत्रालय एवं उद्योगों) से विशिष्ट अपेक्षा को देखते हुए विभाग को एक समाकलनात्मक भूमिका अदा करना है जो सामरिक महत्व क्षेत्र, ज्ञान क्षेत्र, सामाजिक क्षेत्र के अनुसंधान एवं विकास उद्येश्यों के मध्य संतुलन बनाए रख सके।

संसाधनों के अधिकाधिक प्रयोग के माध्यम से प्राप्त उत्पादों का विकास करना एवं राष्ट्रीय मिशन एवं पणधारियों के प्रत्याशा की पूर्ति के लिए सटीक कार्यक्रमों को तैयार करना आदि पर विशेष ज़ोर दिया जाता है।

महत्वपूर्ण ध्यान देने योग्य क्षेत्र-
योजना विभाग के चिन्हित फोकस क्षेत्र निमन्वत हैं।
  1. अनुसंधान एवं विकास के निष्पादन मूल्यांकन
    ए) अनुसंधान एवं विकास से प्राप्त लाभ का मूल्यांकन
    बी) विकसित प्रौद्योगिकी समाधान/प्रभाव क्षेत्र विस्तार को सुव्यवस्थित करना।
    सी) अन्य महत्वपूर्ण संस्थानों के निष्पादन का मानचित्रण करना ताकि एक मानक/मंच हासिल किया जा सके।
  2. प्रौद्योगिकी मानचित्रण
    ए) प्रौद्योगिकी सूचना, संबंधित क्षेत्रों में पूर्वाभास देना एवं मूल्यांकन
    बी) संबंधित परियोजना एवं क्षेत्रों के लिए आईपी भू दृश्य निर्माण।
  3. ट्रान्स-डिसिप्लिनरी कार्य के लिए मार्ग प्रशस्त करना।
    ए) उद्भवन एवं रूपांतरण कार्यक्रमों को पहचान करना एवं योजना बनाना
    बी) इंटर एजेंसी सुअवसर को व्यवस्थित करना
    सी) संस्थान में शैक्षणिक कार्यक्रम
    डी) मिशन मोड कार्यक्रमों को तैयार करना।
  4. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी नियम नीति
    ए) सामग्री उत्पादन एवं साधन में अनुसंधान नीति सी) मानव पूंजी का मान चित्रण
    डी) मानव संसाधन एवं उत्पाद संगठन की एक दूसरे के साथ तुलना


चालू परियोजनाएं
क्रम सं
परियोजना का नाम
संक्षिप्त विवरण
परिणाम
1. एमएसएमई प्रौद्योगिकी सुविधा केन्द्र की स्थापना यह परियोजना प्रौद्योगिकीय आवश्यकताओं के उपलब्धता सीएसआईआर प्रौद्योगिकी द्वारा या प.बंगाल केएमएसएमई क्लस्टर में जो अंतर है उसके मैपिंग से संबन्धित है। सूचना सहयोग प्रौद्योगिकीय परामर्श; क्षमता निर्माण
2. सीएसआईआर-सीजीसीआरआई में टेप्प आउटरीच सह कलस्टर नवाचार केन्द्र को सहायता प्रदान करना यह परियाजना व्यक्तिगत प्रवक्तकों, स्टार्ट-अप्स एमएसएमई को सहायता प्रदान करना ताकि डीएसआईआर के प्रिस्म योजना के लिए प्रभावी प्रस्ताव तैयार कर सके। संवेदी कार्यक्रम भी प्रयास का एक अंश है। नवाचार का प्रवर्धन एवं क्षमता निर्माण


मानव संसाधन
वैज्ञानिकगण

डॉ. देबाशीष बंद्योपाध्याय, विभागाध्यक्ष
श्री इंद्रनील विश्वास, वैज्ञानिक

वर्किंग पेपर एवं नीति संबंधी विवरण
जल्द आ रहा है………… (एक नयी धारावाहिक अंक जिसमें काँच, सिरामिकी, मटीरियल साइंस, उत्पादन क्षेत्र एवं एसएमई का महत्वपूर्ण क्षेत्र शामिल किया गया है।




    Updated on: 21-04-2016 20:52 
facebook
twitter
:: Contents of this site © केन्द्रीय कांच एवं सिरामिक अनुसंधान संस्थान (सीजीसीआरआई) ::             :: सर्वश्रेष्ठ स्क्रीन रिज़ॉल्यूशन: 1024x768 ::