सर्च-सीजीसीआरआई

 कर्मचारी खोजें@सीजीसीआरआई 
 नाम:
 (पहला नाम / अंतिम नाम से खोज)    

    Home     सिरामिक झिल      परिदृष्टि
 सिरामिक मेम्ब्रेन 
     
 


परिदृष्टि
सिरामिक झिल्ली गतिविधि एक खोज के रूप में वर्ष 1993-94 के दौरान आरम्भ की गई और इस गतिविधि में तब प्रगति आई जब इसे दो प्रायोजित परियोजनाएँ वर्ष 1995 में प्राप्त हुई । निर्माणात्मक चरण के दौरान अनुसंधान एवं विकास गतिविधियाँ मुख्यतया डिस्क एवं नालाकार आकृति में अल्प लागत सिरामिक झिल्ली के विकास पर केन्द्रित थी, जिसमें प्रणाली डिजाइन एवं झिल्ली आधारित वियोजन प्रक्रिया हेतु प्रोटोटाइप का विकास शामिल था ।

सिरामिक झिल्ली गतिविधि के अप-स्केलिंग एवं प्रदर्शन पर प्रथम मील का पत्थर जनवरी, 2002 में तय किया गया, जब आर्सेनिक दूषित भूतल-जल के उपचार हेतु पायलट संयंत्र परीक्षण (500 एल पी डी क्षमता) का सफलतापूर्वक संचालन क्षेत्र स्थिति के अर्न्तगत स्लिप कांस्टिंग तकनीकी द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित एकल चैनल सिरामिक तत्वों से निर्मित सात तत्व माड्यूल (0.5 एम2) का उपयोग करके किया गया । अल्प लागत सिरामिक मल्टी चैनल तत्वों के विकास से लौह निष्कासन हेतु सिरामिक झिल्ली प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोग के राह में एक कदम आगे बढ़ने में मदद मिला तथा एक प्रायोगिक संयंत्र (5000 एल पी डी क्षमता) प्रोद्योगिकी दिवस (11 मई, 2003) के अवसर पर सीएसआईआर-वैज्ञानिक आवास परिसर (सिरसा) में एक परित्यक्त हैंड पम्प नलकूप से लौह निष्कासन हेतु स्थापित किया गया ।

उपरोक्त उपलब्धियों एवं देश में सिरामिक झिल्लियों पर अनुसंधान की महत्ता की विशिष्टता बतलाने के लिए दो राष्ट्रीय सेमिनार वर्ष 1997 एवं 2003 में आयोजित किए गए थे । इन प्रयासों के परिणामस्वरूप इस गतिविधि ने सिरामिक झिल्ली अनुभाग का रूप लिया तथा अन्तत: दिसम्बर, 2004 में यह पूर्ण रूपेण सिरामिक झिल्ली प्रभाग के रूप प्रतिष्ठित हुई । गतिविधियों में विस्तार के कारण, जून, 2007 में 1050 मी2 सतह क्षेत्रफल के साथ एक सिरामिक 2007 के दौरान झिल्ली प्रतिकारकों में उत्प्रेरण पर अंतराष्ट्रीय सम्मेलन (आई सी सी एम बी) के आयोजन पर अन्तराष्ट्रीय पहचान मिली ।

इस प्रभाग द्वारा 6 अन्तर्राष्ट्रीय सहयोगिता सहित कुल 24 परियोजनाओं का प्रबंधन किया गया तथा वर्तमान मे इसमें 8 वैज्ञानिक, 5 तकनीकी अधिकारी एवं सहायकगण तथा 3 कर्मचारी कार्यरत हैं ।





    Updated on: 24-09-2012 22:26 
facebook
twitter
:: Contents of this site © केन्द्रीय कांच एवं सिरामिक अनुसंधान संस्थान (सीजीसीआरआई) ::             :: सर्वश्रेष्ठ स्क्रीन रिज़ॉल्यूशन: 1024x768 ::